Home जीवन मंत्र कुछ ये घरेलु नुस्खे ज़रूर अपनाये और फर्क देखे। इनसे आपका दुबला पतला शरीर भी शक्तिशाली बनेगा

कुछ ये घरेलु नुस्खे ज़रूर अपनाये और फर्क देखे। इनसे आपका दुबला पतला शरीर भी शक्तिशाली बनेगा

14 second read
0
0
275

अगर बचपन में की हुयी गलतियों से या अत्यधिक मैथुन से आपका शरीर बहुत कमज़ोर हो गया हैं और आपका वैवाहिक जीवन सही नहीं चल रहा हैं तो कुछ दिन ये घरेलु नुस्खे ज़रूर अपनाये और फर्क देखे। इनसे आपका दुबला पतला शरीर भी शक्तिशाली बनेगा। और ना सिर्फ आपका शरीर सुदृढ़  बनेगा अपितु आपकी वीर्य सम्बंधित सभी समस्याए भी हल होंगी।

उड़द-

अगर आपकी पाचन क्रिया अच्छी हैं तो उड़द आपके लिए रामबाण हैं। उड़द के लड्डू, उड़द की दाल, दूध में बनाई हुई उड़द की खीर का सेवन करने से वी*र्य की बढ़ोतरी होती है और सं*भो*ग शक्ति बढ़ती है।

तालमखाना-

तालमखाना ज्यादातर धान के खेतों में पाया जाता है इसे लेटिन भाषा में एस्टरकैन्था-लोंगिफोलिया कहते हैं। वीर्य के पतले होने पर, शीघ्रपतन रोग में, स्वप्नदोष होने पर, शुक्राणुओं की कमी होने पर रोजाना सुबह और शाम लगभग 3-3 ग्राम तालमखाना के बीज दूध के साथ लेने से लाभ होता है। इससे वीर्य गाढ़ा हो जाता है।

गोखरू-

गोखरू का फल कांटेदार होता है और औषधि के रूप में काम आता है। बारिश के मौसम में यह हर जगह पर पाया जाता है। नपुंसकता रोग में गोखरू के लगभग 10 ग्राम बीजों के चूर्ण में इतने ही काले तिल मिलाकर 250 ग्राम दूध में डालकर आग पर पका लें। पकने पर इसके खीर की तरह गाढ़ा हो जाने पर इसमें 25 ग्राम मिश्री का चूर्ण मिलाकर सेवन करना चाहिए। इसका सेवन नियमित रूप से करने से नपुसंकता रोग में बहुत ही लाभ होता है।

मूसली-

मूसली पूरे भारत में पाई जाती है। यह सफेद और काली दो प्रकार की होती है। काली मूसली से ज्यादा गुणकारी सफेद मूसली होती है। यह वी*र्य को गाढ़ा करने वाली होती है।

मूसली के चूर्ण को लगभग 3-3 ग्राम की मात्रा में सुबह और शाम दूध के साथ लेने से वी*र्य की बढ़ोत्तरी होती है और शरीर में का*म*उत्तेज*ना की वृद्धि होती है।

वी*र्य वृद्धि और शु*क्राणुओं को बढ़ाने के 4 विशेष प्रयोग

विशेष प्रयोग – 1

100 ग्राम तालमखाने के बीज, 100 ग्राम चोबचीनी, 100 ग्राम ढाक का गोंद, 100 ग्राम मोचरस तथा 250 ग्राम मिश्री को कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। रोजाना सुबह के समय एक चम्मच चूर्ण में 4 चम्मच मलाई मिलाकर खाएं। यह मिश्रण यौन रुपी कमजोरी, ना*मर्दी तथा वी*र्य का जल्दी गिरना जैसे रोग को खत्म कर देता है।

विशेष प्रयोग – 2

पीपल का फल और पीपल की कोमल जड़ को बराबर मात्रा में लेकर चटनी बना लें। इस 2 चम्मच चटनी को 100 मि.ली. दूध तथा 400 मि.ली. पानी में मिलाकर उसे लगभग चौथाई भाग होने तक पकाएं। फिर उसे छानकर आधा कप सुबह और शाम को पी लें। इसके इस्तेमाल करने से वी*र्य में तथा से*क्स करने की ताकत में वृद्धि होती है।

विशेष प्रयोग – 3

बच्चा पैदा करने के लिए सिर्फ एक बलशाली शुक्राणु की जरूरत होती है, जो स्त्री के अंडाणु से संयोग कर गर्भ में परिवर्तित होता है। वीर्य में शुक्राणुओं की कमी होने या शुक्राणु कमजोर होने पर बच्चे पैदा करने में परेशानी होती है।

विशेष प्रयोग – 4

इसके लिए शतावरी, गोखरू, बड़ा बीजबंद, बंशलोचन, कबाब चीनी, कौंच के छिलकारहित बीज, सेमल की छाल, सफेद मुसली, काली मुसली, सालम मिश्री, कमल गट्टा, विदारीकंद, असगन्ध सब 50-50 ग्राम और शक्कर 300 ग्राम, सभी द्रव्यों को अलग-अलग कूट-पीसकर कपड़छान कर लें। शक्कर को भी पीसकर महीन कर लें और सभी को मिला लें व तीन बार छान लें, ताकि एक जान हो जाएं। सुबह-शाम एक-एक चम्मच चूर्ण मीठे दूध के साथ 60 दिन तक सेवन करें और इसके बाद वी*र्य की जाँच करवाकर देख लें कि शुक्राणुओं में क्या वृद्धि हुई है।

पर्याप्त परिणाम न मिलने तक प्रयोग जारी रखें।

यह नुस्खा शीघ्रपतन, स्वप्नदोष, नपुंसकता आदि बीमारियों में भी लाभ करता है।

Load More Related Articles
Load More By Jugal Swami
Load More In जीवन मंत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

50 किलो खराब मावा नष्ट करवाया

Share this on WhatsAppजयपुर। प्रदेशभर में मिलावटखोरों के खिलाफ जारी ‘शुद्ध के लिये युद्ध‘ …