Home Entertainment अमृता देवी बिश्नोई के बलिदान को लेकर बनी फिल्म साको 363 जल्द होगी रिलीज

अमृता देवी बिश्नोई के बलिदान को लेकर बनी फिल्म साको 363 जल्द होगी रिलीज

32 second read
0
0
153

अमृता देवी बिश्नोई के बलिदान को लेकर बनी फिल्म साको 363 जल्द होगी रिलीज

मुम्बई .एक तरफ बिश्नोई समाज मूक वन्य जीवों के सुरक्षा कवच बने हुए हैं इनके साथ साथ पौधारोपण करने , पेड़ – पौधों को बचाने के लिए हर समय तैयार रहता हैं वहीं दूसरी ओर पर्यावरण संरक्षण की प्रेरणा देने के लिए समाज ने एक बड़ा कदम उठाया हैं. समाज की ओर से अमृता देवी बिश्नोई के वृक्ष रक्षार्थ इतिहास को फ़िल्म के माध्यम से बताया जाएगां.करीबन 300 वर्ष पूर्व अमृता की अगुवाई में खेजड़ी पेड़ की रक्षार्थ  363 नर – नारी के बलिदान को विश्व भर में दिखाने के लिए श्री जम्भेश्वर पर्यावरण एवं जीव रक्षा प्रदेश संस्था राजस्थान ने फ़िल्म साको 363 का निर्माण किया हैं. जो विश्व भर में पहली बॉलीवुड हिंदी भाषी फ़िल्म हैं आमजन के जीवन मे प्रकृति प्रेम लगाव का संदेश देगी.भारत के अलावा अन्य देशों में अंग्रेजी भाषा मे दिखाई जाएंगी.
Saako 363 will be released soon for Amrita Devi Bishnoi’s sacrifice
रविवार को मुकाम पीठाधीश्वर आचार्य स्वामी रामानंदजी महाराज , पीपासर धाम के महंत स्वामी भक्तिस्वरूपजी , मालवाड़ा महंत स्वामी सुखदेवजी सहित संत मंडली , समाज के बुद्धिजन ,निर्माता सदस्यों और श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा प्रदेश संस्था (रजि.) राजस्थान की बड़ी टीम ने मुबंई पहुंच कर थिएटर में  फिल्म का प्री व्यू देख कर हिंदी बॉलीवुड फिल्म साको 363 की समीक्षा कर समाज की तरफ से स्वीकृति दी गईं.संस्था के प्रदेश महामंत्री एवं निर्माता सदस्य अनिल बिश्नोई लखासर ने बताया कि दो घंटों की फिल्म को देखकर खुशी और गर्व से अभिभूत हो गये दर्शक.

देशभर की नौकरियों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें-

बिश्नोई समाज के वन्यजीव और पर्यावरण के प्रति समर्पण , त्याग व बलिदान कर देने  तक के पवित्र भाव भरे दृश्य देखकर गद् गद् हुए दर्शकों की आंखों से आंसुओं की धाराएं बह चली जिससे उनके मुंह से मां अमृता के जयकारों व साको करेंगें के उद्घोष और तालियों की गड़गडाहट से गूंज उठा थिएटर. सभी की प्रसन्नता तथा खिले हुए चेहरों के भाव स्पष्ट कर रहे थे फिल्म की सफलता की प्रबल संभावनाएं और सभी बोल पड़े बहुत अच्छी बनी है फिल्म.

इस आयोजन ने फिल्म की सफलता की पूर्ण संभावनाओं पर बिश्नोई समाज की मुहर लगा दी है.सभी ने कलाकारों की मेहनत की भूरि भूरि प्रशंसा की और निर्माता निर्देशक रामरतन बिश्नोई , विक्रम बिश्नोई  , निर्देशक मनोज सेटी सहित संस्था की टीम को स्नेहपूर्वक ढेर सारी बधाइयां दी. एक दूसरे से गले मिलकर भावविभोर हो गये. बिश्नोई ने बताया कि सेंसर से स्वीकृति मिलने के बाद जल्द ही भारत  के सिनेमा घरो में हिंदी भाषा में तथा विदेशो में अग्रेजी भाषा में रिलीज किया जाएगा ।

देशभर की खबरों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें-

अनिल बिश्रोई ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए पेड़ों को बचाना जरूरी है.प्रकृति के साथ इस कदर ज्यादती की जा रही है कि जल्द ही इसे नही रोका गया तो मानव जीवन खतरे में पड़ जाएगा.ओलावृष्टि, अतिसर्दी, अतिगर्मी, भूकंप, तूफान, सुनामी जैसे प्राकृतिक प्रकोप भी प्रकृति से छेड़छाड़ का ही परिणाम हैं.इसके लिए पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करना जरूरी है और हमारी इस फिल्म का यही उद्देश्य है.

363 लोग कट गए मगर नहीं कटने दिया पेड़

286 वर्ष पूर्व जोधपुर दरबार के महाराजा अभयसिंहजी द्वारा मेहरानगढ़ गढ़ में फूल महल नामक राजभवन का निर्माण किया जा रहा था.निर्माण के लिए चूना पकाने हेतु लकड़ी की आवश्यकता पड़ी तो राजकर्मी गिरदास भंडारी  सिपाहियों की सेना लेकर जोधपुर के खेजड़ली गांव में पंहुचे थे.जहाँ अत्यधिक संख्या में हरी खेजड़ियों के पेड़ थे.गाँव के रामोजी खोड की धर्मपत्नी अमृतादेवी बेनीवाल बिश्नोई ने सिपाहियों को पेड़़ काटने से रोका.राजकर्मी नहीं माने तो अमृतादेवी ने पेड़ बचाने का नारा लगाकर लोगों का आह्वान किया और पेड़ के चिपककर खड़ी हो गई.सिपाहियों ने उसको काट दिया। अमृतादेवी की तीन बेटियों ने भी पेड़ों के चिपककर बलिदान दे दिया.अमृतादेवी ने पेड़ों को बचाना अपना कर्तव्य समझा था.शरीर को तिनके के समान समझकर हरसम्भव पेड़ की रक्षा की.

साको 363 में दिखेगा बिश्रोई समाज का प्रकृति प्रेम

अमृतादेवी बिश्रोई ने नारा दिया था कि- ”सिर साटै रूँख रहे तो भी सस्तो जाण” बिश्रोई समाज के 294 पुरुष एवं 69 महिलाओं ने अपने ईष्टदेव भगवान श्री गुरु जम्भेश्वरजी के आदर्श वचनों पर चलकर खेजड़ी पेड़ की रक्षा करते हुए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया था.जब यह सूचना महाराजा को मिली तो उन्होनें आकर बिश्रोई समाज से माफी मांगी और भविष्य में उनके क्षेत्र में पेड़ नहीं काटने व वन्यजीवों का शिकार नहीं करने का ताम्रपत्र लिखकर दिया था।  बलिदानियों की उच्च सोच का सन्देश देकर पर्यावरण के प्रति जन-जन को जागरूक करना ही इस फिल्म का उद्देश्य है.
sako 363
यह होंगे अदाकार
लक्की फिल्म की प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेत्री स्नेहा उल्लाल  फिल्म में अमृता देवी का अहम किरदार निभाया.इसके अलावा प्रसिद्ध अभिनेता मिलिंद गुणाजी , बृज गोपाल , गेवी चहल , फिरोज ईरानी , राजेशसिंह ,  नेना सिंह , गरिमा , मनीषा बेदी , विमल उन्याल , सागर व्यास  , श्रवण चौधरी , साहिल कोहली , गजेंद्र मण्डली , सहित 50 से अधिक कलाकार होंगे.इसके साथ साथ शूटिंग स्थल पर पहुंचे साको सदस्यों को भी ग्रामीण परिवेश में दिखाने का प्रयास किया गया है. वहीं दिल्ली , हरियाणा , गुजरात , महाराष्ट्र , पंजाब एवं राजस्थान राज्यों के बिश्नोई समाज के पुरुष , महिलाओं एवं बच्चों को इस फिल्म में अभिनय करने का मौका मिला है.

सत्य घटना पर है फिल्म की कहानी

इस फिल्म में समज के ऐतिहासिक तथ्यों के प्रमाण जुटाकर फिल्म की कहानी को रामरतन बिश्नोई ने  साकार रूप दिया हैं. , जिसमे विक्रम बिश्नोई , सूरज बिश्नोई ने सहयोग किया हैं.सत्य घटना के सभी तथ्यों को प्रमाणों के आधार पर ही अन्तिम रूप दिया गया है.जाम्भाणी साहित्य, ऐतहासिक स्थलों के प्रमाण, राजस्थान के इतिहास, जोधपुर रियासत के इतिहास, राजस्थान सरकार, भारत सरकार तथा अन्य राज्यों की सरकारों द्वारा अमृतादेवी बिश्रोई के नाम से दिए जाने वाले पुरस्कारों को शुरु करने से पहले दिये गये प्रमाण भी जुटाए गए हैं.
sako 363
फिल्म की शूटिंग के बाद महाराष्ट्र , उत्तराखण्ड  व अन्य राज्यो ने भी शिक्षा विभाग  द्वारा पाठ्यक्रम के रूप में जारी पुस्तकों में भी इस घटना का संक्षेप में विवरण बच्चों को पढ़ाया जा रहा है.राजस्थान राज्य में तो पहले से ही स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रमों में  बच्चों को पर्यावरण की अलख जगाने के ये जोड़ा गया है.फिल्म के माध्यम से जब इसका विस्तृत सन्देश विश्व के कोने कोने तक पंहुचेगा तो पेड़ बचाने के अभियान को मजबूती मिलेगी.नई पीढ़ी जागरूक होगी। पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा.

समाज की प्रथम बोलीवुड फिल्म पर लगी बिश्नोई समाज की  मुहर

  ” थियेटर में साको का प्रीव्यू देखकर मेरी आँखें दो बार नम हो गयी , आंखों से दो बार आँशु छलके.फ़िल्म दिल छू लेने वाली हैं जो अच्छी तरह चलेंगी  ” वरिष्ठ कलाकार बृज गोपाल , मुम्बई.

अपने गांव शहर देश दुनिया की पल पल की ताजा खबरों से उपडेट रहने के लिए अपने न्यूज ओपिनियन की एप्प को नीचे दिए इस लिंक से डाऊनलोड करें। 

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.newsopinion.weboo

 


Load More Related Articles
Load More By Jugal Swami
Load More In Entertainment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कार से डोडा पोस्त ले जाते पंजाब के दो जनें गिरफतार

Share this on WhatsAppकार से डोडा पोस्त ले जाते पंजाब के दो जनें गिरफतार Two people of Pun…