Home Rajasthan Hanumangarh # dara singh gill दारा सिंह गिल का जाना एक बुलंद आवाज जाना

# dara singh gill दारा सिंह गिल का जाना एक बुलंद आवाज जाना

20 second read
0
0
220

दारा सिंह गिल का जाना एक बुलंद आवाज जाना
संगरिया.समाज सेवा में निस्वार्थ भाव से काम करके लगातार समाज सेवा में बने रहना कोई बिरला ही होता है.यह बात पूरी तरह स्टीक अगर बैठती है तो वह है दारा सिंह गिल.इतनी कम उम्र में इतना नाम कमाना कोई छोटी बात नहीं.गांव में किसी तरह की समाजसेवा की बात की जाए तो उस कार्य की शुरुवात में दारा सिंह गिल का नाम ना आए यह नहीं हो सकता.

दोस्तो के साथ वाघा बोर्डर पर दारा सिंह गिल
दोस्तो के साथ वाघा बोर्डर पर दारा सिंह गिल
Dara Singh Gill Going To Be A Strong Voice

दारा सिंह गिल हमेशा गांव में पेयजल समस्या,सांस्कृतिक कार्यक्रम,स्कूल में किसी तरह की समस्या,गांव में नन्हीं छांव के नाम से पौधारोपण कार्यक्रम हो हमेशा आगे रहे.बाहर से गांव में कोई संस्था ने कार्यक्रम करना हो तो दारा सिंह गिल से जरुर सम्पर्क करते जिससे उनके कार्यक्रम पूरी तरह सफल होता.गांव में कई निशुल्क मेडिकल शिविर भी लगवाए.

देशभर की नौकरियों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें-

दारा सिंह गिल ने शहीद भगत सिंह क्लब के माध्यम से गांव में समाज सेवा चला रहे थे.पिछले दिनों गांव में सरकारी अस्पताल के नए भवन के निर्माण को लेकर जिला कलेक्टर से भी मुलाकात की थी.वहीं गांव के एसबीआई बैंक के नए भवन की तलाश में लगे थे जिससे ग्रामीणों को बैंक का ओर अधिक लाभ मिले.
हमारे अजीज मित्र दारा सिंह गिल 12 अप्रेल की शाम को अचानक तबीयत खराब होने पर गंगानगर के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया था जंहा बीती रात वो हमें छोड़ कर चले गए.

दारा सिंह गिल

देशभर की खबरों के लिए यहां क्लिक करें-

14 अप्रेल की सुबह जैसे ही दारा सिंह गिल के निधन की खबर मिली सब हैरान रह गए.गिल के निधन की खबर आग की तरह फैली व उनके चाहने वालों का तांता उनके निवास स्थान ढ़ाबां में लग गया.दोपहर बाद उनका गांव में गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार कर दिया गया जिसमें सैंकड़ो लोगों ने नम आखों से विदाई दी.सभी की जुबान पर एक ही बात थी कि आज दारा सिंह नहीं गया आज एक समस्याओं को उठाने वाली आवाज चली गई.

कुछ समय पूर्व 23 मार्च को दारा सिंह गिल हुसैनीवाला में शहीदों को नमन करने अपने दोस्तों के साथ हर साल की तरह गए थे। मुझे भी जाने के लिए बहुत कहा पर मैं उस दिन बाहर होने के कारण नहीं जा पाया.आज अफसेास होता है कि काश मैं भी उस दिन जाता.न्यूज ओपिनियन परिवार मेरे अजीज मित्र दारा सिंह गिल के निधन पर गहरी शोक व्यक्त करते हुए भगवान से उनके परिवार को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की कामना करता है.

अपने गांव शहर देश दुनिया की पल पल की ताजा खबरों से उपडेट रहने के लिए अपने न्यूज ओपिनियन की एप्प को नीचे दिए इस लिंक से डाऊनलोड करें। 

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.newsopinion.weboo

 

Load More Related Articles
Load More By Jugal Swami
Load More In Hanumangarh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कार से डोडा पोस्त ले जाते पंजाब के दो जनें गिरफतार

Share this on WhatsAppकार से डोडा पोस्त ले जाते पंजाब के दो जनें गिरफतार Two people of Pun…