पौग बांध में पानी के जल स्तर के मध्यनजर फसलो के लिये चलाया जा रहा है पानी

0
12
कम वर्षा के कारण पोंग बांध में जल स्तर हुआ कम
हनुमानगढ़ । जल संसाधन उत्तर के मुख्य अभियन्ता श्री के.एल. जाखड़ ने बताया कि इन्दिरा गांधी नहर परियोजना की नहरो में खरीफ की फसल हेतु 10.08.18 तक 3 में से 1 समूह में पानी उपलब्ध करवाया गया। इस वर्ष जुलाई माह में पोंग बांघ के जल संग्रहण क्षेत्रों में कम वर्षा होने के कारण पानी का संग्रह बहुत कम हुआ। 4 अगस्त को इस वर्ष एवं गत वर्ष पाैंग बांध के जल स्तर 1357.15 फीट से घटकर 1312.34 फीट, पानी की आवक 54939 से घटकर 14929 एवं निकासी 9508 से घटकर 8011 हो गया।
उन्होंने बताया कि 4 अगस्त 2018 को पौंग बांध का जल स्तर गत वर्ष की अपेक्षा 43.09 फीट, कम था। इसमें इस वर्ष केवल 24.28 प्रतिशत पानी ही बढ़ा था, जबकि मानसून की अवधि लगभग आधी से भी ज्यादा निकल चुकी थी। ऐसी परिस्थिति मंे जल परामर्शदात्री समिति की बैठक 6 अगस्त को आयोजित करके जल उपलब्धता के सम्बन्ध में चर्चा की गई। पाैंग बांध में पानी के जल स्तर एवं पानी की आवक के मध्यनजर नहरो को नहरो को 4 में से 1 समूह चलाये जाने के अलावा अन्य कोई विकल्प नही रह गया था। ऐसी भी स्थिति पैदा हो गई थी, की अगर पाैंग बांध से पानी की निकासी मित्तव्यतता से नही की  जाती तो, पीने का पानी का संकट भी खड़ा हो सकता था।  ऐसी परिस्थिति में 10 अगस्त से नहरो को 4 मंे से 1 समूह चलाया जाना प्रारम्भ करना पड़ा।
इसके अलावा उन्होंने बताया कि अगस्त माह के द्वितीय सप्ताह से पानी की आवक में बढ़ोतरी हुई। पोंग बांध में पानी  की उपलब्धता एवं फसलो के लिये पानी की अवश्यकता के मध्यनजर उच्च स्तर पर बीबीएमबी से प्रयास करके अतिरिक्त पानी लेकर यह व्यवस्था की गई ताकि प्रत्येक काश्तकार को 3 में से 1 बारी के अनुरूप पानी मिल सके। यह अतिरिक्त पानी 4 में से 1 समूह में चौथे ग्रुप की नहरो को तीसरे ग्रुप की नहरो के साथ चलाया जा रहा है। नहरों को तीन में से एक समूह में 7 सितम्बर को प्रातः 6 बजे से चलाये जाने का चक्रीय कार्यक्रम 29 अगस्त को जारी किया जा चुका हैं।
शनिवार को पाैंग बांध का जल स्तर 1371.74 फीट है, जबकि गत वर्ष इसी दिन पाैंग बांध का जल स्तर 1381.50 था। इस प्रकार पाैंग बांध का जल स्तर 9.76 फीट कम है तथा अभी भी पाैंग बांध 18.26 फीट खाली है। पौग बांध में पानी के जल स्तर के मध्यनजर फसलो के लिये पानी चलाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here